SOCIAL

मदर डे यानि मातृ दिवस की पूर्व संध्या पर पिछले साल के दौरान रुपहले पर्दे की अपनी पसंदीदा मांओं को याद करने की कोशिश करते हैं।

 देवकी सबरवाल(मॉम)

हालाँकि सभी मांए अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करती हैं और हमेशा तत्पर रहती हैं, मॉम दिखाती है कि एक माँ (देवकी) किस तरह अपनी बच्ची के लिए सभी बातों को अपने हाथ में लेती है और यह साबित करती है क़ि एक प्यारी मां अपनी बच्ची के लिए पूरी दुनिया से भिड़ने की ताकत रखती है। अपनी सौतेली बेटी की बेरुखी के बावजूद रिश्तों को सामान्य बनाने की दिशा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ती। जब उसकी बेटी के साथ बलात्कार किया जाता है, एक बार तो न्याय प्रणाली की विफलता उसकी हिम्मत तोड़ती सी दिखती है , फिर अपने अंतर्द्वंद पर हावी होकर वह जिस तरह अपने अनूठे तरीकों से सभी अपराधियों को एक-एक करके स्वयं ही सजा देती है , बॉलीवुड में कभी पूर्व में इस तरह नहीं उकेरा गया।

 शिवगामी देवी (बाहुबली)

एक माँ के जीवन में कई विकल्प होतें है और किसी एक विकल्प को चुनना आसां नहीं होता शिवगामी भी एक साहसिक निर्णय लेती है,एकबारगी तो उसका यह निर्णय हमें क्रुद्ध करता है । जिस तरह शिवगामी ने आमेंद्र बाहुबली और भल्लालदेव के पालन पोषण में कोई भेदभाव नहीं किया जबकि आमेंद्र तो उसकी अपनी संतान भी न होकर उसका भतीजा था, काबिलेतारीफ था। रानी माँ के रूप में वह न केवल दोनों को बनाकर रखती है बल्कि महिषा मति के पूरे राज्य की निगरानी करती है । उसके आँखों के भाव जब वह बाहुबली को राज्याभिषेक के बाद देखती है शायद दोनों फिल्मों के सबसे पसंदीदा क्षण थे। और फिर शिवगामी का गौरवशाली अंत जहाँ उसने अमरेंद्र बाहुबली के बेटे महेंद्र को बचाया- कोई सानी नहीं।

नजमा मल्लिक(सीक्रेट सुपरस्टार)

नजमा (मेहर वी) हरवक्त सुख दुख में अपनी बेटी इंसिया के लिए खड़ी है, उसके प्यार और समर्थन में ऐसी शक्ति है जो पुरुष के भद्दे मर्दानापन और अंधभक्ति का भी सामना करती है। जैसा फिल्म में दिखाया गया तब भी जब इंसिया गर्भ में थी, उसने किस तरह अपने शौहर फारुख के गर्भ गिराने की हर कोशिश को नाकाम किया । उसका अपने गहने बेचकर इंसिया के लिए लैपटॉप खरीदना, ताकि उसकी आवाज इंटरनेट के माध्याम से अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सके , हमारे दिल को छू लेता है और हम भावविभोर हो उठते हैं। अंत में जब इंसिया को सम्मानित किया जाता है , उसकी मुस्कान यह दर्शाती है कि माँ की ख़ुशी सिर्फ अपने बच्चों की ख़ुशी में निहित है और उनकी इस खुशी के लिए हर मां निःस्वार्थ भाव से देखभाल करती है , प्रयास करती है।

जेन चैपमैन(बिग लिटिल लाइज)

जब हर कोई खिलाफ है तो वह व्यक्ति जो हमेशा आपका पक्ष लेता है, आपकी परवाह करता है वह आपकी मां है। अपने भयावह अतीत से पीछा छुड़ाने के लिए एक युवा अकेली औरत चैपमैन अपने इकलौते बेटे जिग्गी के साथ एक छोटे से शहर मोंटेरे में आती है आश्रयहीन होते हुए भी जब उसके बेटे पर अपने नए स्कूल में अपने सहपाठी को धमकाने का आरोप लगता है , जेन अपने बेटे पर भरोसा करती है, उसके निर्दोष होने का विश्वास करती है और उसकी यही बात हमें पसंद आती है और हम उसे और ज्यादा प्यार करते है। हम इस बात का विश्वास करने को मजबूर हो जाते है कि जीवन के नाजुक दौर में सभी तरह की भावात्मक उथल पुथल के बावजूद भी जेन आगे बढ़ती है और पहले से ज्यादा मजबूत होकर उभरती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *