Games Technology

‘मोमो चैलेंज’ क्या है जिसकी वजह से जा रही है जान?

जलपाईगुड़ी की रहनेवाली एक कॉलेज छात्रा को मौत का गेम ‘मोमो चैलेंज’ मिलने का का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि एक दिन बाद ही बृहस्पतिवार को इस जानलेवा गेम ने एक छात्र को मौत का पैगाम ही भेज दिया।  मोमो गेम को लेकर बुधवार को जलपाईगुड़ी की एक छात्रा ने एक अज्ञात कॉलर के खिलाफ पुलिस से शिकायत दर्ज करायी थी।  जिसमें उसने कहा था कि एक अज्ञात कॉलर ने उसे नए वर्चुअल सुसाइड गेम मेमो गेम चेलैंज में शामिल होने के लिए उकसाया। 
 पुलिस इस मामले की जांच में लगी ही थी कि सिलीगुड़ी से करीब ३५ किलोमीटर दूर दार्जिलिंग जिले के कर्सियांग में तो इस गेम के चक्कर में एक छात्र की जान ही चली गयी.पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कर्सियांग के सेंट मेरी इलाके में एक १८ वर्षीय छात्र मनन सारकी की अस्वभाविक मौत हो गयी है।  घर के पास ही एक ग्वाल घर से फंदे से लटकता उसका शव बरामद हुआ। 
वह बारहवीं कक्षा में पढ़ता था. यह घटना हांलाकि पिछले सोमवार को ही घटी है।  तब पुलिस परिवार वालों ने इसे आत्महत्या का मामला मान लिया था। 
अब जब मृतक के मोबाइल फोन को खंगाला गया तो परिवार के लोगों को संदेह है कि मोमो गेम के चक्कर में उसकी मौत हुयी है। उसके व्हाट्सएप में कुछ अज्ञात नंबरों के लिंक पाये गए हैं।  जिसमें उसे मोमो गेम का चैलेंज भेजा गया है। 
 इस खेल के पहले चरण में उसे आइने के सामने सेल्फी लेने का चैलेंज मिला था।  ऐसा नहीं करने पर मोबाइल फोन हैक करने की धमकी दी गयी थी।  इधर,जीटीए के वाइस चेयरमैन अनित थापा ने पहाड़ पर किशोरों को मोमो गेम नहीं खेलने की अपील की है।  उन्होंने यह भी कहा कि यदि किसी के पास इस प्रकार का मैसेज आता है तो तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दें।  यहां उल्लेखनीय है कि मेमो गेम एक नया व्हाट्सएप सुसाइड गेम है।  
अमेरिका,स्पेन और मैक्सिको सहित कई देशों की पुलिस मोमो गेम को लेकर चिंता जता चुकी है।  यह बिल्कुल ब्ल्यू व्हेल चैलेंज की तरह ही है।  जिसके चलते रूस में आत्महत्या के १३० मामले सामने आए थे।  बहरहाल ब्ल्यू व्हेल चैलेंज के बाद मोमो गेम ने भी भारत में दस्तक दे दी है।  एक दिन पहले जलपाईगुड़ी में मोमो गेम का जो मामला सामने आया उसकी अभी भी जांच जारी है।  अपनी शिकायत में जलपाईगुड़ी की फर्स्ट ईयर की छात्रा ने कहा है कि उसकी अपनी मां के साथ झगड़ा होने के बाद उसने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था कि वह अपनी जान देना चाहती है। उसके फौरन बाद उसके मोबाइल पर एक अज्ञात नंबर से मैसेज आया।  उसमें उसे मेमो गेम चैलेंज स्वीकार करने के लिए कहा गया था। 
 इधर,कर्सियांग में जो घटना घटी है,उससे मोमो गेम को लेकर पूरे इलाके में दहशत है। पुलिस अभी इसे मोमो गेम का  मामला नहीं मान रही है,लेकिन परिवार वालों को संदेह है कि मोमो गेम के चक्कर में ही छात्र की जान गयी है। जिस जगह से छात्र का शव बरामद हुआ है,वहां अजीब भाषा में कुछ लिखा भी गया है।  उस लिखावट को कोई भी नहीं समझ पा रहा है। 
ब्लू व्हेल गेम जैसा खेल
2016 में ब्लू व्हेल गेम ने पूरी दुनिया में सनसनी मचा दी थी.रूस के कुछ किशोरों ने इस इंटरनेट गेम को बनाया था.  इस खेल की वजह से अनेक किशोरों ने आत्महत्या कर ली थी.  भारत में भी अनेकों बच्चों के आत्महत्या के मामले सामने आये था.  दो वर्ष बाद अब २०१८ में मोमो चैलेंज गेम चर्चा में है।  यह इंटरनेट गेम व्हाट्सअप के जरिये बच्चों को अपना शिकार बना रहा है। 
अभिभावक रहें सावधान
विशेषज्ञों के अनुसार ब्लू व्हेल गेम की तरह मोमो गेम भी खेलने वालों को आत्महत्या के लिए उकसाता है।  ब्लू व्हेल गेम में यूजर को अनेक टास्क दिए जाते थे।  उसी तरह मोमो चैलेंज गेम में  भी अनेक टास्क दिए जाते है।  अंत में आत्महत्या का काम दिया जाता है।  इस गेम ने अमरीकी देशो में लोगो की नींद उड़ा दी है।यह सोशल मीडिया पर वाइरल होकर बच्चों को अपना शिकार बना रहा है।अमेरिका, फ्रांस,अर्जेंटीना, मैक्सिको, जर्मनी जैसे देशों में यह तेजी से फैल रहा है। अब तो भारत में भी इस गेम ने दस्तक दे दी है। 

ये एक मोबाइल गेम है जो हमारे दिमाग के साथ खेलता है, डर का माहौल बनाता है और फिर जान ले लेता है.भारत में ये गेम पिछले कुछ दिनों से चर्चा में हैं.एक मामला राजस्थान के अजमेर की एक छात्रा की आत्महत्या से  भी जुड़ा है।  १० वीं क्लास की छात्रा ने इसी साल ३१  जुलाई को आत्महत्या कर ली थी।  बच्ची के घरवालों का आरोप है कि उसका फ़ोन देखने पर पता चला कि उसकी मौत मोमो चैलेंज लेने की वजह से हुई है। 

हालांकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है।  लेकिन अजमेर पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा है, ”मीडिया में चल रहा है कि वो बच्ची मोमो गेम खेलती थी।  हम इसी बिंदु पर पड़ताल कर रहे हैं।”

मोमो चैलेंज से दूर रहने की सलाह देते हुए १९ अगस्त को अजमेर पुलिस ने ट्विटर पर लिखा, “मोमो चुनौती नाम से एक और इंटरनेट चुनौती युवा दिमाग में छेड़छाड़ कर रही है, जहां लोगों को अज्ञात संख्या से संपर्क करने और अपनी व्यक्तिगत जानकारी प्रकट करने के लिए बनाया जाता है। अजमेर पुलिस अपने नागरिकों से आग्रह करती है कि इन चुनौतियों में शामिल न हों”

इससे पहले १८ अगस्त को मुंबई पुलिस ने भी ट्वीट किया था। लोगों को इस चैलेंज को स्वीकार न करने की सलाह देते हुए मुंबई पुलिस ने ट्वीट कर लिखा है कि अनजान नंबर से दूर रहें. इसकी सूचना १०० नंबर पर दें। 

मेक्सिको की क्राइम इंवेस्टिगेशन यूनिट के मुताबिक, अगर आप अनजान नंबर से आए मैसेज पर मोमो से बात करते हैं तो आपको पांच तरह के ख़तरे हो सकते हैं। 

  • निजी जानकारी का सार्वजनिक होना
  • आत्महत्या या हिंसा के लिए उकसाना
  • धमाकाना
  • उगाही करना
  • शारीरिक और मनोवैज्ञानिक तनाव पैदा करनामोमो चैलेंज में दिखने वाली तस्वीर जापान की है।मेक्सिको के कम्प्यूटर क्राइम इंवेस्टीगेशन यूनिट के मुताबिक़ यह सब फेसबुक से शुरू हुआ है।  इस गेम में लोगों को अनजान नंबर से आए मैसेज पर जवाब देने को कहा जाता है।  हालांकि इस नंबर के साथ एक चेतावनी भी होती है। “जो कोई इस नंबर पर मोमो को जवाब देता है उसको मोमो की तरफ से डरावने और हिंसक मैसेज भेजे जाते हैं।  वो आपकी निजी जानकारी शेयर करने की धमकी भी देता है। 

तो एक डरावनी तस्वीर, जिसकी दो बड़ी-बड़ी गोल आंखें हो, जो हल्के पीले रंग की दिखती हो, जिसकी एक डरावनी से मुस्कान हो और टेढ़ी-मेढ़ी नाक हो. अचानक से आपके वाट्सऐप मैसेज पर किसी अनजान नंबर से ऐसी कोई तस्वीर आए, तो ज़रा संभल जाइएगा।उसका जवाब मत दीजिएगा।

Momo Challenge पर सरकार ने पैरंट्स को दीं ६ हिदायत, फॉलो करें वरना खतरे में पड़ जाएगा बच्चा

  • अपने वॉट्सएेप या मोबाइल फोन पर किसी अज्ञात नंबर पर बात न करें। न ही ऐसे नंबर को सेव करें।
  • यदि कोई आपको मोमो की फोटो भेजे या उससे संबंधित कोई काम करने को कहे तो नंबर को तुरंत ब्लॉक कर दें। कोई जवाब न दें। पुलिस को सूचित करें। मोमो चैलेंज गेम खेलने वाले दोस्तों से दूर रहें।
  • माता-पिता बच्चों की देखरेख करते रहें कि वो इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं। कोई संदिग्ध चीज पाए जाने पर बच्चों को तुरंत रोकें।
  • यदि आपके बच्चो में व्यवहारिक, मनोवैज्ञानिक, असामान्य बदलाव या दबाव दिखाई दे तो तुरंत कारण जानने की कोशिश करें।
  • जब तक आपको पक्का यकीन न हो कि आपका बच्चा माेमो चैलेंज जैसी किसी चीज के बारे में जानता है उससे इस बारे में बात न करें। क्योंकि ऐसे में पता लगने पर वह यह करके जरूर देखना चाहेगा।
  • अगर आपको लगता है कि आपका बच्चा इस गेम को खेल रहा है तो तुरंत पुलिस के साथ-साथ डॉक्टर की सलाह लें। 

 

 

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *