Lifestyle

घरेलु उपचार: सॉंप के काटते ही ये करें

दुनिया में जितने भी कीड़े हैं उनमे से सॉंप सबसे ज़्यादा खतरनाक एवं जानलेवा है। आज के विज्ञान के पास हर साँप के ज़हर को तोड़ने के लिए कोई न कोई दवा ज़रूर है। किन्तु आज भी देश में कई लोग साँपों के काटने के वजह से मारे जाते हैं। मृत्यु होने का कारण सिर्फ इतना है की उन्हें समय पर दवा नहीं मिल पाती। मरीज सही समय पर अस्पताल नहीं पहुँच पाता है इसलिए उसे बचाना मुश्किल हो जाता है। कभी कभी तो अस्पताल में दवा नहीं मिलती और बाहर से दवा मंगाने का समय नहीं रहता है।

लेकिन अगर हम साँप के काटते ही कुछ ऐसा करें जिससे साँप के ज़हर को रोका या नष्ट किया जा सके तो मरीज को बचाया जा सकता हैं। अगर आप यह सोचते हैं की साँप के ज़हर को केवल दवाई से ही रोका या नष्ट किया जा सकता है तो आप गलत सोच रहे हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलु उपचार बताएँगे जिन्हे साँप के काटते ही मरीज के ऊपर उपयोग करना चाहिए।

पहला उपाय

सबसे पहले तो साँप ने जहाँ काटा है उसके एक या दो इंच ऊपर एक रस्सी बांध ले। इस घटना के समय आपके पास जो भी उपलब्ध हो जाए चाहे वह रबर हो या रस्सी, उसे तुरंत बाँध ले। ध्यान रहे – रस्सी एकदम ज़ोर से बांधें ताकि ज़हर आगे ना बढ़ सके।

ऐसा करने से खून का बहाव धीमा हो जाएगा और खून के साथ ज़हर नहीं फैलेगा। अगर आपने रस्सी नहीं बाँधी तो खून की मदद से ज़हर पूरे शरीर में फ़ैल जाएगा और मरीज को बचाना मुश्किल हो जाएगा।

दूसरा उपाय

पहला उपाय बहुत ही आसान था लेकिन ये दूसरा उपाय बड़ा ही दर्दनाक है। लेकिन प्राणों की रक्षा यदि थोड़ा दर्द सहने से होती है तो वो दर्द ही सही है। अब जहाँ आपने रस्सी बाँधी है उसके थोड़ा नीचे चाक़ू या सुई से आधा इंच छेद कर लें। जी हाँ ! ये छेद आपको अपने शरीर में करना है। ये थोड़ा मुश्किल है लेकिन इसे करना बहुत ज़रूरी है। इसके साथ उस छेद में से दबा दबा कर खून को बाहर निकाले ताकि ज़हर वाला खून पूरी  बाहर निकल जाए।

छेद वाले स्थान से ज़हर वाला खून बाहर निकल जाएगा। इससे ज़हर का असर मरीज के शरीर पर नहीं होगा और उसे बचाना संभव हो जाएगा।

तीसरा उपाय

ये उपाय भी थोड़ा आसान है। अगर आपके घर में देशी घी उपलब्ध हो तो उसे तुरंत रोगी को पिला दें। देशी घी को ऐसे ही पी जाना सबके बस की बात तो नहीं है लेकिन इसे पीने से ज़हर आपके शरीर में फैलेगा नहीं। घी की मदद से हार्ट (Heart) ज़हरीले खून को आगे नहीं बढ़ने देगा। घी आपके बाकी ज़रूरी अंगों की भी ज़हर से रक्षा करता है। तो यदि आपके घर में घी उपलब्ध है तो बिना समय गवाए उसे मरीज को पीला दें।

चौथा उपाय

इस उपाय में आपको केवल रोगी पर ध्यान देना है की कहीं वो सो न जाए। साँप के काटने पर मरीज को कभी सोने नहीं देना है। ख़ास तौर पर यदि मरीज ने घी पी लिया है तब तो उसे जगाकर ही रखें। सोने के बाद ज़हर ज़्यादा तेजी से फैलता है।

लेकिन साँप के काटने के बाद मरीज को नींद ज़रूर आएगी। इसलिए इस बात का विशेष ध्यान देना है। अगर मरीज को जगाये रखने के लिए उसके आँखों में मिर्च लगाना पड़े तो वो भी कर दे। क्यूंकि यदि मरीज सो गया तो उसे बचाना लगभग असंभव हो जाएगा।

पाँचवा उपाय

ये उपाय सबसे ज़्यादा आसान है। इसमें मरीज के उस अंग जहाँ साँप ने काटा है वहां स्पिरिट या पेट्रोल जो भी मिल जाए , तुरंत छिड़क दे। पेट्रोल अपनी शक्ति से ज़हर का असर काट देता है। जब तक मरीज को दवा नहीं मिल जाती तब तक ये पेट्रोल का छिड़कना ही उसे बचाकर रखेगा।

तो ये थे पाँच बेहतरीन उपाय जिनकी मदद से आप मरीज को कुछ समय के लिए सुरक्षित कर सकते हैं। ध्यान रहे – इन इलाजों पर पूरी तरह निर्भर रहना बेवकूफी होगी। ये उपाय ज़हर के असर को धीमा कर देते हैं ताकि मरीज को अस्पताल तक पहुंचने का समय मिल जाए। इन उपयोगों के बाद भी जल्द से जल्द मरीज को अस्पताल तक पहुचायें।

AUTHOR : RISHAV RAI

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *