Gadgets

बैन PUBG गेम : ११ साल का बच्चा हाईकोर्ट पहुंचा !

PUBG मोबाइल गेम से तो आप परिचित होंगे ही। आए दिन भारत में पबजी को बैन करने की मांग चल रही है। कुछ दिन पहली ही गुजरात में पबजी पर बैन लगाया गया है, वहीं जम्मू-कश्मीर में भी पबजी पर बैन की मांग चल रही है। दिल्ली में आयोजित परीक्षा-पे-चर्चा कार्यक्रम में भी पबजी का जिक्र हुआ और एक सवाल पर पीएम मोदी ने कहा- ये पबजी वाला है क्या तो कुछ तालियां भी बजीं। वहीं एक ११ साल का एक बच्चा पबजी को भारत में पूरी तरह से बैन करने के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंचा है।

अहद निजाम नाम के बच्चे ने बॉम्बे हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर करके पबजी पर बैन की मांग की है और कहा है कि पबजी गमे हिंसा, आक्रामकता और साइबर अपराध को बढ़ावा देता है।  बता दें कि अहद की मां मरियम निजाम वकील हैं और अपनी मां की मदद से अहद ने कोर्ट से पबजी पर बैन की मांग की है। याचिका में यह भी कहा गया है कि केंद्र सरकार को इस तरह की हिंसात्मक ऑनलाइन गेम पर समय-समय पर जांच के लिए एक ऑनलाइन समीक्षा समिति बनानी चाहिए।

अहद ने राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्र के कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और राज्य के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े को चार पेज का पत्र भी लिखा है।इस पत्र में बच्चे ने मांग की है पबजी ऑनलाइन गेम को बंद किया जाए इस गेम की वजह से बच्चों में अवसाद की घटना और हिंसात्मक सोच बढ़ रही है और बच्चे पढ़ाई से भी दूर जा रहे हैं। 

छठी कक्षा में पढ़ने वाले अहद निजाम के अनुसार यह गेम खेलने वालों के मन में बुरे विचार आते हैं। यह गेम मार-पीट और चोरी जैसी सोच को बढ़ावा देता है।बच्चे ने पत्र में यह भी लिखा है, कि यह कोई पहला ऑनलाइन गेम नहीं है इसके पहले भी कई सारे गेम थे। जैसे फॉर्म विला और पोकीमॉन जो बच्चों को पढ़ाई से दूर कर देते थे और वक्त रहते बच्चों के परिजनों को भी इस ऑनलाइन गेम के बारे में जागरुक होना चाहिए, ताकि बच्चों को इस गेम के लत से छुटकारा मिल सके। 

नशा किसी भी चीज का बुरा होता है, इसलिए ऑनलाइन गेम के नशे को समाप्त करना सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए क्योंकि एक विद्यार्थी जब नशे की लत से आजाद होगा तभी वो पढ़ाई पर पूरा ध्यान दे पाएगा। उम्मीद की जानी चाहिए कि राज्य सरकार और केंद्र सरकार इसपर उचित कदम उठाएगी और बच्चे की मांग को पूरा किया जाएगा ताकि भविष्य में बच्चे अपनी पढ़ाई और अपने कॉन्सनट्रेशन को बरकरार रख सके और गेम की लत से छुटकारा मिल सके। 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *