BUSINESS

अमेरिका का वेनेज़ुएला पर आर्थिक प्रतिबन्ध, वेनेज़ुएला का भविष्य अब भारत पर निर्भर

२८ जनवरी २०१९ से अमेरिका ने वेनेज़ुएला से तेल खरीदना बंद कर दिया।अब तक अमेरिका ही वेनेज़ुएला का सबसे बड़ा ग्राहक था लेकिन अमेरिका के इस कदम के बाद वेनेज़ुएला की परेशानियाँ काफी बढ़ गयी है। वेनजुएला के राष्ट्रपति Nicholas Maduro ने अपने तेल मंत्री Manuel Quevedo को भारत के दौरे पर भेजा है। इस दौरे के ज़रिये वेनेज़ुएला ज़्यादा मात्रा में भारत को तेल बेचना चाहता है। अमेरिका के बाद भारत ही वेनेज़ुएला के तेलों का सबसे बड़ा खरीदार है। वेनेज़ुएला हर रोज भारत को ३ लाख बैरल से भी ज़्यादा तेल बेचता है। वेनेज़ुएला इस संख्या को दो गुना करने का प्रस्ताव रख रहा है।

अमेरिका द्वारा प्रतिबन्ध लगाए जाने से पहले, वेनेज़ुएला हर रोज करीब ५ लाख बैरल तेल अमेरिका को बेचता था। अचानक से अमेरिका द्वारा यह प्रतिबन्ध लगाए जाने के वजह से वेनेज़ुएला की अर्थव्यवस्था पर काफी असर पड़ा है। असल में अमेरिका चाहता है की वेनेज़ुएला के मौजूदा राष्ट्रपति Nicholas Maduro अपनी सत्ता छोड़ दे, इस वजह से अमेरिका ने तेल खरीदना बंद करके वेनेज़ुएला के ऊपर आर्थिक प्रतिबन्ध लगा दिए हैं। अमेरिका के इस फैसले में कई अन्य देशों ने अमेरिका का समर्थन किया है। लेकिन भारत और चीन, इन दोनों देशों ने अब तक वेनेज़ुएला से तेल खरीदना बंद नहीं किया है। अमेरिका के बाद भारत और चीन ही वेनेज़ुएला के तेलों के सबसे बड़े खरीदार है।

वेनेज़ुएला के तेल मंत्री Manuel Quevedo ने भारतीय ग्राहकों से दो गुना तेल खरीदने की माँग की है। Reliance Industries और Nayara Energy, ये दोनों कंपनियां भारी मात्रा में वेनेज़ुएला से तेल खरीदती हैं। Manuel Quevedo ने इन दोनों कंपनियों का नाम लेकर इनसे भारी मात्रा में तेल खरीदने की गुजारिश की है। अभी तक इन दोनों कपोनियों की तरफ से वेनेज़ुएला के तेल मंत्री को कोई जवाब नहीं मिला है और नाही तो भारत सरकार ने वेनेज़ुएला से इस बारे में कोई बात की है। Reliance Industries तो सीधे वेनेज़ुएला के सरकारी तेल कंपनी PDVSA से तेल खरीदती है लेकिन Nayara Energy को वेनेज़ुएला का तेल रूस की कंपनी Rosneft के ज़रिये प्राप्त होता है।

अमेरिका कुछ भी करके वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति Nicholas Maduro को उनकी कुर्सी से हटाना चाहता है। इस अमेरिका ने वेनेज़ुएला की सरकार को आर्थिक रूप से कमज़ोर करने के लिए तेल खरीदना बंद कर दिया है। अगर भारत और चीन अपनी तेल की आयात को वेनेज़ुएला से जारी रखते हैं तो Nicholas Maduro को कुछ ख़ास असर नहीं पडेगा। यदि भारत और चीन में से किसी एक ने भी अपने तेल की आयात को बंद कर दिया तो वेनेज़ुएला को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। 

REFERENCE

Factbox: U.S. sanctions on Venezuela’s oil industry

AUTHOR : RISHAV RAI

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *