Games अजब गजब

ड्रेस कोड : धोती में क्रिकेट और संस्कृत में कमेंटरी

बनारस के संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में मंगलवार को अनोखा क्रिकेट मैच खेला गया। मैच में सभी खिलाड़ियों ने धोती-कुर्ता पहनकर बैटिंग-बॉलिंग की। खेल के दौरान संस्कृत में कॉमेंट्री ने लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।मौका था सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के शास्त्रार्थ महाविद्यालय के डायमंड जुबली वर्ष में प्रवेश करने के दौरान संस्कृत क्रिकेट स्पर्धा का। विश्वविद्यालय के मैदान में खेले जा रहे इस क्रिकेट प्रतियोगिता के दौरान बॉल फेंकने जा रहे बटुक को देखकर कमेंटेटर ने कहा, ‘अतीव सुंदरतया कंदुक प्रक्षेपणेन, दंड चालक: स्तब्धोजात।’ 

इस एक दिवसीय मैच में पांच महाविद्यालय की टीमें हिस्सा ले रही हैं। मैच आठ-आठ ओवर का खेला जाता है। विजेता और उप विजेता को शास्त्रार्थ महाविद्यालय की ओर से सर्टीफिकेट दिए जाते हैं। कार्यक्रम के संयोजक आचार्य गणेश दत्त शास्त्री ने बताया कि संस्कृत को बढ़ावा देने के लिए इस टूर्नामेंट का आयोजन किया जाता है। इस बार शास्त्रार्थ महाविद्यालय का ७५ वीं वर्षगांठ भी है। टूर्नामेंट का उदघाटन अंतरराष्‍ट्रीय महिला क्रिकेटर नीलू मिश्रा और काशी विश्‍वनाथ मंदिर के मुख्‍य पुजारी श्रीकांत मिश्रा ने किया। खिलाड़ी देवात्मा दूबे ने बताया कि मैंने संस्कृत से पीएचडी की है और कई सालों से क्रिकेट खेल रहा हूं। पारंपारिक परिधान में क्रिकेट अपने आप में अनोखा होता है। धोती में क्रिकेट खेलना काफी कठिन है। इसकी तैयारी काफी करनी पड़ती है।

अंपायरों ने भी पारंपरिक भारतीय कपड़े पहन रखे थे। पूर्व रणजी खिलाड़ी धीरज मिश्रा और संजीव तिवारी ने इस दौरान अंपायरिंग की। धोती-कुर्ता पहने बल्‍लेबाजों को बैटिंग और रन लेने के दौरान किसी तरह की समस्‍या नहीं हुई। वे बड़े आराम से खेलते हुए नजर आए।यह टूर्नामेंट ब्रह्मावेद विद्यालय की टीम ने शास्‍त्रार्थ ब टीम को हराकर जीता। ब्रह्मावेद विद्यालय के मानवेंद्र को ५४ रन बनाने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *