SOCIAL

विमेंस डे २०१९ : कल की दो बातें दिल को छू गयीं !

प्रथम मुंबई पुलिस कमिश्नर संजय बारवे ने शुक्रवार को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर एक मीम शेयर किया है, जिस पर लिखा है, “हर कामयाब पुरुष के पीछे नहीं, उसके बराबर खड़ी होती है महिला।” गौरतलब है, मीम में बिहाइंड (पीछे) शब्द को काट दिया गया है। संजय ने लिखा, “हमेशा कंधे से कंधा मिलाकर। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मुबारक हो।”

This is the perfect use of language. I feel this simple sentence can change the discourse and people stop using that hackneyed sentence altogether. What a wordsmith!

द्वितीय, सुप्रीम कोर्ट की जज जस्टिस इंदिरा बनर्जी ने अंतर्राष्ट्रीय विमेंस डे की पूर्व संध्या पर एक प्रोग्राम में कहा , ” महिलाओं को आरक्षण देना उनकी क्षमताओं को कम करके आंकना है। ” वे मौजूदा आरक्षण व्यवस्था को अपमानजनक मानती है जिसके चलते उन्हें कई बार खुद तरह तरह की टिप्पणियों का सामना करना पड़ा है।  उन्होंने ज़िक्र किया जब वे कोलकाता हाई कोर्ट की जज रहीं तकरीबन साढ़े चार साल तक।  वे एकमात्र महिला जज थी उस समय बेंच में और उनके पुरुष साथी मुँह पर यह कहने से गुरेज नहीं करते थे कि उन्हें तरक्की मिली चूँकि वे महिला है और यह बात उन्हें पीड़ा पहुंचाती थी। उन्हें गर्व है कि वे महिला हैं।   

 

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *